HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

Sirmaur : ये है सिरमौर के छह मेधावी जिन्होंने प्रदेश शिक्षा बोर्ड की मेरिट लिस्ट में पाया स्थान 

By Sandhya Kashyap

Published on:

Summary

Sirmaur के शिलाई की सरकारी स्कूल की BPL छात्रा ने कला संकाय में मारी बाजी नाहन : हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के जमा दो कक्षा के घोषित परिणामों में प्रदेश की मेरिट लिस्ट में Sirmaur के छह मेधावियों ने अपना परचम लहराया। कला और वाणिज्य संकाय में चार निजी ...

विस्तार से पढ़ें:

Sirmaur के शिलाई की सरकारी स्कूल की BPL छात्रा ने कला संकाय में मारी बाजी

नाहन : हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के जमा दो कक्षा के घोषित परिणामों में प्रदेश की मेरिट लिस्ट में Sirmaur के छह मेधावियों ने अपना परचम लहराया। कला और वाणिज्य संकाय में चार निजी और एक सरकारी स्कूल में छह होनहारों ने टॉप टेन में जगह बनाई है।

Sirmaur : ये है सिरमौर के छह मेधावी जिन्होंने प्रदेश शिक्षा बोर्ड की मेरिट लिस्ट में पाया स्थान 

राजकीय मॉडल वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला शिलाई की छात्रा नेहा ने बीपीएल परिवार से होने और सर पर पिता का साया न होने के बावजूद कला संकाय में प्रदेश भर में आठवां स्थान हासिल करके अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया।

Sirmaur से मेरिट सूची में जगह बनाने वाली नेहा सरकारी स्कूल की एकमात्र छात्रा हैं। वहीं एवीएन वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला नाहन के दो छात्रों ने वाणिज्य संकाय में एक साथ टॉप टेन में जगह बनाई है। इससे पूरे स्कूल में खुशी माहौल है।

Also Read : Sirmaur जिला के 100 वर्षीय  पांच मतदाता हुए सम्मानित,  DC सिरमौर ने टोपी, फूल और प्रशस्ति पत्र भेंट कर किया सम्मानित 

सोमवार को बोर्ड परीक्षा का परिणाम घोषित होने के बाद स्कूल पहुंचे दोनों छात्रों का प्रधानाचार्य केके चंदोला ने मुंह मीठा करवाया और भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। इस मौके पर दोनों दोस्तों के अभिभावक भी मौजूद रहे। इनके अलावा विज्ञान संकाय में करियर अकादमी स्कूल नाहन की छात्रा वैशाली मेरिट सूची में दसवां स्थान हासिल करके अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Sirmaur : वहीं दुग्गल कैरियर पब्लिक स्कूल पांवटा साहिब के मेधावी छात्र ध्रुव कुमार ने वाणिज्य संकाय में प्रदेश भर में सातवां स्थान हासिल किया। जबकि द डैफोडिल्स पब्लिक स्कूल शिवपुर की मेधावी छात्रा सिमरन सैनी ने कला संकाय में प्रदेश भर में 10वां स्थान प्राप्त किया है।

सीए बनना चाहता है दिव्यांश अग्रवाल (कामर्स, तीसरा स्थान)

एवीएन वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला नाहन के दिव्यांश अग्रवाल सीए बनना चाहते हैं। नाहन निवासी दिनेश अग्रवाल और सुमन गुप्ता के पुत्र दिव्यांश अग्रवाल ने कॉमर्स संकाय में पूरे प्रदेश में तीसरा स्थान अर्जित किया गया। इन्होंने 500 में से 487 अंक प्राप्त किए हैं। इनके पिता दिनेश अग्रवाल व्यवसाई हैं, जबकि माता सुमन गुप्ता शिक्षिका हैं। दिव्यांश अग्रवाल ने बताया कि वह स्कूल के बाद रोजाना दो से तीन घंटे पढ़ाई करता था। उसने सीए बनने की इच्छा जाहिर की है। दिव्यांश ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और शिक्षकों को दिया है।

बिजनेसमैन बनना चाहता है माधव लोहिया (कामर्स संकाय, 10वां स्थान)

एवीएन वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला नाहन के छात्र माधव लोहिया ने कामर्स संकाय में प्रदेशभर में दसवां स्थान हासिल किया। इन्होंने 500 में से 474 अंक प्राप्त किए हैं। माधव लोहिया के पिता मनीष लोहिया सफल बिजनेसमैन हैं, जबकि माता प्रीति लोहिया गृहिणी हैं। माधव लोहिया ने अपने पिता की तरह सफल बिजनेसमैन बनने की इच्छा जाहिर की है।

माधव ने बताया कि अच्छे अंक लाने के लिए खुद पर कोई दवाब नहीं बनाया। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय प्रधानाचार्य केके चंदोला, शिक्षकों और अभिभावकों को दिया।

Sirmaur : ये है सिरमौर के छह मेधावी जिन्होंने प्रदेश शिक्षा बोर्ड की मेरिट लिस्ट में पाया स्थान 

डॉक्टर बनना चाहती है वैशाली (विज्ञान संकाय, 10वां स्थान)

करियर अकादमी वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला नाहन की छात्रा वैशाली ने विज्ञान संकाय में प्रदेश भर में 10वां स्थान हासिल किया है। वैशाली ने 500 में से 484 अंक हासिल किए हैं। वैशाली के पिता सुरेश कुमार शर्मा शिक्षक हैं जबकि माता वर्षा शर्मा गृहिणी हैं। वैशाली ने डाक्टर बनने की इच्छा जाहिर की है। वैशाली ने अपनी सफलता का श्रेय शिक्षकों और अभिभावकों को दिया है।

पढ़ाई जारी रखना चाहती है नेहा (कला संकाय, 8वां स्थान)

Sirmaur : राजकीय मॉडल वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला शिलाई की छात्रा नेहा ने कला संकाय में प्रदेश भर में आठवां स्थान हासिल किया है। बीपीएल परिवार से संबंधित नेहा ने 500 में से 480 अंक हासिल किए हैं। नेहा के पिता टिकम सिंह की 2015 में मृत्यु हो गई थी। माता कमला देवी खेती बाड़ी करके नेहा समेत पांच बच्चों की परवरिश कर रही है। नेहा अभी पढ़ाई जारी रखना चाहती है। नेहा ने अपनी सफलता का श्रेय परिजनों और शिक्षकों को दिया है।