HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

Shillai : चांदपुरधार मेले के दौरान पहाड़ी से गिरे पत्थर, दो गंभीर घायल, एक हायर सेंटर रैफर 

By Sandhya Kashyap

Published on:

Summary

Shillai क्षेत्र की सबसे ऊंची चोटी चांदपुरधार में संक्रांति के दिन होता है मेले का आयोजन Shillai (अंजू बाला) : Shillai में चांदपुरधार मेले के दौरान पहाड़ी से पत्थर गिरने पर दो लोग गंभीर घायल हो गए हैं जिन्हें प्राथमिक उपचार के लिए चांदपुरधार से शिलाई अस्पताल लाया गया है। Shillai ...

विस्तार से पढ़ें:

Shillai क्षेत्र की सबसे ऊंची चोटी चांदपुरधार में संक्रांति के दिन होता है मेले का आयोजन

Shillai (अंजू बाला) : Shillai में चांदपुरधार मेले के दौरान पहाड़ी से पत्थर गिरने पर दो लोग गंभीर घायल हो गए हैं जिन्हें प्राथमिक उपचार के लिए चांदपुरधार से शिलाई अस्पताल लाया गया है। Shillai अस्पताल में डॉक्टर ने प्राथमिक उपचार के बाद एक को हायर सेंटर रेफर किया है जबकि दूसरे का इलाज स्थानीय अस्पताल में चल रहा है।

 

Shillai : चांदपुरधार मेले के दौरान पहाड़ी से गिरे पत्थर, दो गंभीर घायल, एक हायर सेंटर रैफर 

Also Read : Shillai में ग्रामीण आजीविका विभाग के तहत जमाकर्ता शिक्षा और जागरूकता शिविर का आयोजन

विभागीय जानकारी के अनुसार चांदपुरधार मेले में पहुंचे Shillai गांव के मोहन उम्र 32 वर्ष और बशवा गांव की कल्पना उम्र 27 वर्ष अचानक पहाड़ी से गिरे पत्थर की चपेट में आ गए और दोनों को गंभीर चोटें आई है। दुर्घटनाग्रस्त दोनों व्यक्तियों को Shillai अस्पताल पहुंचाया गया जहां पर प्राथमिक उपचार के बाद कल्पना को हायर सेंटर रेफर किया गया है जबकि मोहन का उपचार शिलाई अस्पताल में चल रहा है। 

वन विभाग मूक दर्शक बैठा आ रहा नजर

क्षेत्रीय लोगों की माने तो पहाड़ों पर अधिक गर्मी होने के कारण चांदपुरधार में जंगल के एक बड़े हिस्से में पिछले कई दिनों से आग लगी हुई है जिसकी वजह से लगातार पहाड़ी से पत्थर गिर रहे हैं और इन पत्थरों के शिकार पशुओं सहित इंसान हो रहे हैं। वन विभाग यहां मूक दर्शक बैठा नजर आ रहा है। विभाग ने कोई उचित कदम नहीं उठाए हैं जिसकी वजह से ना आग बुझ पा रही है और ना ही पहाड़ी से पत्थरों के गिरने का सिलसिला रुक रहा है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

संक्रांति के दिन मेले का आयोजन

जानकारी के अनुसार Shillai क्षेत्र की सबसे ऊंची चोटी चांदपुरधार में संक्रांति के दिन मेले का आयोजन रहता है। मेले में हजारों की संख्या में भीड़ उपस्थित रहती है इस दौरान क्षेत्र के सभी हिस्सों से लोग यहां पहुंचते हैं। दो दिनों तक चलने वाले इस मेले में लोगों को लगभग 2 घंटे का पैदल सफर तय करके यहां पहुंचना होता है। जिसका रास्ता पथरीला और पहाड़ियों से होकर मेला स्थान तक पहुंचता है।

Shillai : चांदपुरधार मेले के दौरान पहाड़ी से गिरे पत्थर, दो गंभीर घायल, एक हायर सेंटर रैफर 

ऐसे में अक्सर यहां दुर्घटनाएं होने के अंदेशा बना रहता है। हालांकि पिछले एक दशक से क्षेत्र के लोग चांदपुरधार तक पहुंचने के लिए लिंक सड़क मार्ग की मांग करते आ रहे हैं। लेकिन राजनीतिक फेर और सरकार की अनदेखी के कारण चांदपुरधार के लिए लिंक मार्ग की व्यवस्था दशकों बाद भी नहीं हो पाई है जिसकी वजह से लोग जान जोखिम में डालकर यहां पहुंचते हैं। 

चांदपुरधार में चंद्रेश्वर महाराज का है मंदिर

उल्लेखनीय है चांदपुरधार में चंद्रेश्वर महाराज का मंदिर है जो समूचे प्रदेश में विख्यात है। हर दिन सैकड़ो लोग यहां चंदेश्वर महाराज के दर्शन करने भी पहुंचते हैं।  श्रद्धालुओं की भीड़ लगातार यहां चली रहती है बावजूद उसके भी सरकार की अनदेखी लगातार देखने को यहां मिली है। लिंक मार्ग न होने की वजह से लोगों को जंगलों के रास्ते चंद्रेश्वर महाराज के दर्शन करने चांदपुरधार पहुंचना होता है।

Shillai अस्पताल में कार्यरत डॉक्टर विवेक ने जानकारी देते हुए बताया कि चांदपुरधार में पत्थर लगने से दो लोग घायल हुए हैं जिसमें मोहन को मामूली चोटे आई है जबकि कल्पना के सिर पर गंभीर चोट आई है जिसे प्राथमिक उपचार के बाद हायर सेंटर इलाज के लिए रेफर कर दिया गया है।