HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

कानपुर: पीजी छात्रों के लिए नो टर्मिनेशन पॉलिसी, फेल होने पर भी छात्र नहीं किए जाएंगे निष्कासित

By Sushama Chauhan

Published on:

Summary

उतरप्रदेश: पढ़ाई का तनाव कम करने और एक माह में तीन आत्महत्याओं को देखते हुए आईआईटी कानपुर में अब पीजी छात्रों के लिए नो टर्मिनेशन पॉलिसी लागू होगी। फेल होने पर भी छात्रों को टर्मिनेट नहीं किया जाएगा। इस व्यवस्था पर सैद्धांतिक रूप से सहमति बन गई है, बस अंतिम ...

विस्तार से पढ़ें:

उतरप्रदेश: पढ़ाई का तनाव कम करने और एक माह में तीन आत्महत्याओं को देखते हुए आईआईटी कानपुर में अब पीजी छात्रों के लिए नो टर्मिनेशन पॉलिसी लागू होगी। फेल होने पर भी छात्रों को टर्मिनेट नहीं किया जाएगा। इस व्यवस्था पर सैद्धांतिक रूप से सहमति बन गई है, बस अंतिम मुहर लगना बाकी है। अभी यह सुविधा यूजी छात्रों को मिलती है। संस्थान में लगातार आत्महत्याओं से आईआईटी प्रशासन चिंतित है। एक महीने के भीतर प्रजेक्ट ऑफिसर पल्लवी चिलका, एमटेक छात्र विकास मीना और पीएचडी छात्रा प्रियंका जायसवाल ने फंदे से लटककर जान दे दी थी। छात्रों में शिक्षण व्यवस्था को लेकर आक्रोश था।

प्रदर्शन कर छात्रों ने टर्मिनेशन को तनाव का बड़ा कारण बताया था। कई छात्रों ने टर्मिनेशन पॉलिसी खत्म करने की मांग भी की थी। घटनाओं के बाद संस्थान ने भी अपने शैक्षणिक कार्यक्रमों में बदलाव का मन बनाया था। संस्थान में अब पीजी छात्रों के लिए भी नो टर्मिनेशन पॉलिसी लागू की जाएगी। सैद्धांतिक रूप से स्नातकोत्तर स्तर पर नो-टर्मिनेशन नीति का लाभ बढ़ाने पर सहमति बनी है। किसी छात्र को सीपीआई रिकॉर्ड के आधार पर टर्मिनेट नहीं किया जाएगा। तैयारी पूरी कर ली गई है, बस अंतिम मुहर लगनी बाकी है।

प्रो. शलभ ने बताया कि पीएचडी छात्रों के भी शैक्षणिक कार्यभार को कम करने का निर्णय लिया गया है। उनके छह पाठ्यक्रम को घटाकर चार कर दिया गया है। पाठ्यक्रम को और लचीला बनाने की तैयारी है। संस्थान छात्रों पर अपना शैक्षणिक कार्य पूरा करने के लिए कोई दबाव नहीं डालेगा।
पीजी छात्रों की परफार्मेंस को आंकने की संस्थान की अपनी प्रक्रिया है। निर्धारित मानकों के अनुसार अंक न आने पर छात्र को टर्मिनेट किया जाता है। लेकिन छात्र के पास मौका होता है कि टर्मिनेशन पर अपील कर सके। अपील के बाद छात्र को अपने नंबरों को सुधारने का मौका मिलता है।

दोबारा मानकों पर खरे न उतरने पर छात्र फिर अपील कर सकते हैं। अपील करने के लिए छात्र के पास कई मौके होते हैं। संस्थान छात्र की बेहतर परफार्मेंस देखने के बाद छात्र को पास करता है। छात्रों पर किसी प्रकार का दबाव नहीं आता है।

Sushama Chauhan

सुषमा चौहान, हिमाचल प्रदेश के विभिन्न प्रिंट,ईलेक्ट्रोनिक सहित सोशल मीडिया पर सक्रीय है! विभिन्न संस्थानों के साथ सुषमा चौहान "अखण्ड भारत" सोशल मीडिया पर मोजूदा वक्त में सक्रियता निभा रही है !