HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

Loksabha Chunav: राष्ट्रीय देव भूमि पार्टी ने शिमला संसदीय सीट के लिए उम्मीदवार का किया ऐलान

By Sandhya Kashyap

Published on:

Summary

Loksabha Chunav : प्रदेश की चारों संसदीय सीटों पर चुनाव लड़ रही पार्टी हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय देव भूमि पार्टी सभी चारों लोकसभा सीटों पर Loksabha Chunav लड़ने जा रही है। सिरमौर जिला मुख्यालय में आज राष्ट्रीय देवभूमि पार्टी ने शिमला संसदीय सीट के लिए पार्टी उम्मीदवार का ऐलान किया। ...

विस्तार से पढ़ें:

Loksabha Chunav : प्रदेश की चारों संसदीय सीटों पर चुनाव लड़ रही पार्टी

हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय देव भूमि पार्टी सभी चारों लोकसभा सीटों पर Loksabha Chunav लड़ने जा रही है। सिरमौर जिला मुख्यालय में आज राष्ट्रीय देवभूमि पार्टी ने शिमला संसदीय सीट के लिए पार्टी उम्मीदवार का ऐलान किया।

Loksabha Chunav: राष्ट्रीय देव भूमि पार्टी ने शिमला संसदीय सीट के लिए उम्मीदवार का किया ऐलान

पार्टी ने शिमला संसदीय सीट से नाहन निवासी समाजसेवी सुरेश कुमार को चुनावी मैदान में उतारा है। पार्टी का दावा किया कि हिमाचल प्रदेश में लोगों का अच्छा समर्थन मिल रहा है।

मीडिया से बात करते हुए राष्ट्रीय देवभूमि पार्टी के अध्यक्ष रुमित ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश की जनता कांग्रेस और भाजपा से तंग आ चुकी है और एक तीसरा विकल्प हिमाचल प्रदेश की जनता देखना चाहती है जो अब राष्ट्रीय देव भूमि पार्टी के रूप में देखने को मिलेगा।

उन्होंने कहा कि पार्टी हिमाचल प्रदेश में सभी चार संसदीय सीटों पर Loksabha Chunav  लड़ रही है और लोगों का भरपूर समर्थन राष्ट्रीय देवभूमि पार्टी को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में एक बार फिर से देखने को मिल रहा है कि भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस धर्म और जाति के नाम पर राजनीति कर रही है और विकास की कोई बात नहीं करना चाहता है। उन्होंने कहा कि इन पार्टियों को ना तो महंगाई ना भ्रष्टाचार और न ही कोई विकास का कोई मुद्दा नजर आता है।

Also Read : Loksabha Chunav : कांग्रेस ने काँगड़ा से आनंद शर्मा, हमीरपुर से सतपाल रायजादा को दी टिकट

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

रुमित ठाकुर ने कहा कि पिछले 3 माह से हिमाचल प्रदेश में जो राजनीतिक उठा पाठक चल रही है उसमें साफ तौर पर यह देखने को मिल रहा है कि कांग्रेस और भाजपा ने प्रदेश की संस्कृति को दागदार किया है उन्होंने कहा कि विधायकों की खरीद फरोख्त होना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है और जिस तरीके से नेता दल बदल रहे हैं वह राजनीति के लिए अच्छा संदेश नहीं है।