HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

Himachal : निर्दलीय विधायकों के मामले में फैसला अब तीसरे जज के हाथ में, दो सदस्यीय खंडपीठ की राय थी जुदा-जुदा 

By Sandhya Kashyap

Published on:

Summary

Himachal : तीनों निर्दलीय विधायकों ने 22 मार्च को सौंपे थे इस्तीफे Himachal प्रदेश के तीन निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे का मामला एक बार फिर लटक गया है। प्रदेश हाईकोर्ट इस मामले में अपना अंतिम फैसला नहीं सुना पाया है। न्यायालय की दो सदस्यीय खंडपीठ की इस मामले पर अलग-अलग ...

विस्तार से पढ़ें:

Himachal : तीनों निर्दलीय विधायकों ने 22 मार्च को सौंपे थे इस्तीफे

Himachal प्रदेश के तीन निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे का मामला एक बार फिर लटक गया है। प्रदेश हाईकोर्ट इस मामले में अपना अंतिम फैसला नहीं सुना पाया है। न्यायालय की दो सदस्यीय खंडपीठ की इस मामले पर अलग-अलग राय है, जिसके बाद मामले को तीसरे जज को सौंपने की सिफारिश की गई है। अब न्यायालय का तीसरा जज मामले की सुनवाई कर अंतिम फैसला सुनाएगा। 

Himachal : निर्दलीय विधायकों के मामले में फैसला अब तीसरे जज के हाथ में, दो सदस्यीय खंडपीठ की राय थी जुदा-जुदा 
FILE PHOTO

Himachal हाईकोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए बीते 30 अप्रैल को फैसला सुरक्षित रख लिया। तभी से निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे पर न्यायालय के फैसले का इंतजार किया जा रहा था।

बुधवार को उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश एमएस रामचंद्र राव और न्यायमूर्ति ज्योत्सना रिवाल दुआ की खंडपीठ ने मामले की सुनवाई की, लेकिन इस मामले में दोनों जजों की राय अलग-अलग है। ऐसे में तीसरे जज की राय के बाद इस पर फैसला आएगा।

Himachal हाईकोर्ट के महाधिवक्ता अनूप रत्न ने बताया कि निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे के मामले में बुधवार को न्यायालय में सुनवाई हुई लेकिन मामले की सुनवाई कर रहे दोनों जजों का अलग-अलग मत था। न्यायमूर्ति राव ने फैसले के दौरान कहा कि विधानसभा अध्यक्ष का संवैधानिक पद है और न्यायालय किसी भी संवैधानिक संस्था को निर्देश नहीं दे सकता कि अध्यक्ष इस मामले पर फैसला कैसे ले।

दूसरी तरफ न्यायमूर्ति ज्योत्सना रिवाल दुआ का मत है कि निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे को स्वीकार करने की शक्ति अध्यक्ष के पास है। न्यायालय अध्यक्ष को इस मामले में निर्देश दे सकता है कि वह इस मामले का दो हफ्ते में निपटारा करें।

महाधिवक्ता ने बताया कि किसी मामले में जजों का दोहरा मत आने के कारण खंडपीठ उस मामले को तीसरे जज के समक्ष रखती है। ऐसे में प्रशासनिक स्तर पर इस मामले को अब मुख्य न्यायाधीश तीसरे जज के सामने रखेंगे और वह इस मामले की पुनः सुनवाई के बाद जो भी निर्णय देंगे, वह अंतिम फैसला माना जाएगा। 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Also Read : Himachal में चुनाव की अधिसूचना जारी, पहले दिन 4 लोकसभा प्रत्याशियों ने भरे नामांकन पत्र

उल्लेखनीय है कि  तीन निर्दलीय विधायकों हमीरपुर से आशीष शर्मा, नालागढ़ से केएल ठाकुर और देहरा से होशियार सिंह ने इस्तीफे मंजूर न करने और उन्हें अध्यक्ष द्वारा कारण बताओ नोटिस जारी करने के खिलाफ याचिका दायर की है।

न्यायालय में सुनवाई के दौरान निर्दलीय विधायकों की ओर से कोर्ट को बताया गया कि इस मामले में उन्होंने खुद जाकर अध्यक्ष के समक्ष इस्तीफे दिए, राज्यपाल को इस्तीफे की प्रतिलिपियां सौंपी, विधानसभा के बाहर इस्तीफे मंजूर न करने को लेकर धरने दिए और न्यायालय तक का दरवाजा खटखटाया तो उन पर दबाव में आकर इस्तीफे देने का प्रश्न उठाना किसी भी तरह से तार्किक नहीं लगता तथा इसलिए इससे बढ़कर उनकी स्वतंत्र इच्छा से बड़ा क्या सबूत हो सकता है। 

गौरतलब है कि तीनों निर्दलीय विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से 22 मार्च को विधानसभा अध्यक्ष तथा सचिव को अपने इस्तीफे सौंपे थे। इस्तीफों की एक-एक प्रति Himachal राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल को भी दी थी। राज्यपाल ने भी इस्तीफों की प्रतियां विधानसभा अध्यक्ष को भेज दी थीं।