HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

Himachal : कांग्रेस के चैतन्य शर्मा के पिता और निर्दलीय विधायक आशीष पर बालूंगज थाना में FIR 

By Sandhya Kashyap

Published on:

Summary

Himachal : चुनाव को लेकर खरीद-फरोख्त, Himachal सरकार को अस्थिर करने की साजिश का आरोप  Himachal कांग्रेस के अयोग्य घोषित विधायक चैतन्य शर्मा के पिता राकेश शर्मा और निर्दलीय विधायक आशीष शर्मा एवं अन्य के खिलाफ बालूगंज थाना शिमला में एफआईआर दर्ज करवाई है। इन पर राज्यसभा चुनाव को लेकर खरीद-फरोख्त ...

विस्तार से पढ़ें:

Himachal : चुनाव को लेकर खरीद-फरोख्त, Himachal सरकार को अस्थिर करने की साजिश का आरोप 

Himachal कांग्रेस के अयोग्य घोषित विधायक चैतन्य शर्मा के पिता राकेश शर्मा और निर्दलीय विधायक आशीष शर्मा एवं अन्य के खिलाफ बालूगंज थाना शिमला में एफआईआर दर्ज करवाई है। इन पर राज्यसभा चुनाव को लेकर खरीद-फरोख्त और विधानसभा सत्र के दौरान प्रदेश सरकार को अस्थिर करने की साजिश रचने का आरोप लगाया गया है। राकेश शर्मा उत्तराखंड के पूर्व मुख्य सचिव रहे हैं।

Himachal : कांग्रेस के चैतन्य शर्मा के पिता और निर्दलीय विधायक आशीष पर बालूंगज थाना में FIR 

कांग्रेस विधायक एवं मुख्य संसदीय सचिव संजय अवस्थी व विधायक भुवनेश्वर गौड़ ने यह मामला दर्ज करवाया है। शिमला पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है। विधायकों की संयुक्त शिकायत में कहा गया है कि राज्यसभा चुनाव को लेकर बड़े स्तर पर खरीद-फरोख्त की गई है। इतना ही नहीं, बजट सत्र में वित्त विधेयक पास न हो पाए और प्रदेश सरकार अस्थिर हो जाए, इसके लिए भी साजिश रची गई। राज्य सरकार को सत्ताविहीन करने के लिए हेलिकाप्टर, अर्धसैनिक बलों और गाड़ियों का इस्तेमाल किया गया।

यह पर्याप्त साक्ष्य हैं, जो इस बात को साबित कर रहे हैं कि प्रदेश सरकार को गिराने की हरसंभव कोशिश की गई। इसमें कांग्रेस विधायक चैतन्य शर्मा के पिता राकेश शर्मा, निर्दलीय विधायक आशीष और अन्य शामिल हैं।

शिमला पुलिस अधीक्षक संजीव गांधी ने कहा कि शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर आगामी छानबीन अमल में लाई जा रही है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि धारा 171ए, 171सी, 120बी और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के सेक्शन 7 व 8 के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है।

क्या कहते हैं विधायक
विधायक आशीष शर्मा और चैतन्य शर्मा ने कहा है कि प्रदेश सरकार ने बौखलाहट में यह कदम उठाया है। शिमला पुलिस इस मामले की एफआईआर की कॉपी भी उन्हें नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि हमारे खिलाफ केस दर्ज करवाने वालों के खिलाफ हम भी मामला दर्ज करवाऐंगे।

Also Read : Himachal Political: बागी हुए कांग्रेस के 6 विधायकों की जाएगी सदस्यता? बजट पास होने के दौरान गैरमौजूद https://rb.gy/5f60r5

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now