HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

मुस्कान नेगी चौथी बार बनीं ‘स्टेट यूथ आइकॉन’ 

By Sandhya Kashyap

Published on:

Summary

मुस्कान नेगी दृष्टिबाधित होने के बावजूद बनीं असिस्टेंट प्रोफेसर हिमाचल प्रदेश चुनाव आयोग ने संगीत की असिस्टेंट प्रोफेसर मुस्कान नेगी को राज्य चुनाव आयोग की यूथ आइकॉन बनाया है। निर्वाचन आयोग ने मुस्कान को लगातार चौथी बार यह मौका दिया गया है। इससे पहले मुस्कान साल 2017 और साल 2022 ...

विस्तार से पढ़ें:

मुस्कान नेगी दृष्टिबाधित होने के बावजूद बनीं असिस्टेंट प्रोफेसर

हिमाचल प्रदेश चुनाव आयोग ने संगीत की असिस्टेंट प्रोफेसर मुस्कान नेगी को राज्य चुनाव आयोग की यूथ आइकॉन बनाया है। निर्वाचन आयोग ने मुस्कान को लगातार चौथी बार यह मौका दिया गया है। इससे पहले मुस्कान साल 2017 और साल 2022 के विधानसभा चुनाव के साथ, साल 2019 के लोकसभा चुनाव में भी स्टेट यूथ आइकॉन रह चुकी हैं। 

मुस्कान नेगी चौथी बार बनीं 'स्टेट यूथ आइकॉन' 

मुस्कान ने दुनिया भर में किया नाम रोशन

मुस्कान नेगी एक खूबसूरत आवाज की मालिक हैं। वह अलग-अलग वाद्य यंत्रों को बजाना जानती हैं। इसके अलावा वे कॉलेज में बच्चों को संगीत की पढ़ाई करवा रही है। एक साधारण परिवार से संबंध रखने वाली मुस्कान नेगी ने न सिर्फ हिमाचल प्रदेश में बल्कि देश दुनिया में अपना एक अलग मुकाम बनाया है। साल 2018 में मुस्कान अमेरिका में भी परफॉर्म कर चुकी हैं। 

मुस्कान नेगी ने सभी मतदाताओं से अपील की है कि वे लोकसभा चुनाव में बढ़-चढ़कर मतदान में भाग लें। उन्होंने विशेषकर महिलाओं और युवाओं से आगे आकर वोट करने का आग्रह किया है। मुस्कान नेगी का कहना है कि वोट करना न सिर्फ हमारा अधिकार है, बल्कि यह हमारा कर्तव्य भी है। ऐसे में हमें अपने अधिकार का इस्तेमाल करने के साथ अपने कर्तव्य का निर्वहन करना है। 

दृष्टिबाधित होने के बावजूद बनीं असिस्टेंट प्रोफेसर

शिमला के राजकीय कन्या महाविद्यालय में संगीत विषय की असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर सेवाएं दे रही मुस्कान बचपन से ही सौ फीसदी दृष्टिबाधित हैं। उन्होंने अपने जीवन में कई बड़े संघर्ष और उतार चढ़ाव के दौर से गुजरी हैं।  मुस्कान भले ही खुद देख नहीं सकती, लेकिन वे अन्य लोगों को जीवन में आगे बढ़ने की राह दिखाने का काम कर रही हैं। स्कूल से लेकर कॉलेज तक एडमिशन लेने के लिए भी मुस्कान नेगी को जीवन में संघर्ष करना पड़ा, लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। कड़ी मेहनत के बाद मुस्कान नेगी ने पहले NET की परीक्षा पास की और बाद में संगीत विषय में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर चयनित हुईं। 

‘बढ़-चढ़कर मतदान में भाग लेने की अपील’

मुस्कान नेगी कहती हैं कि भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। लोकतंत्र में चुनाव ही महापर्व है। उन्होंने कहा कि भारत देश के जागरूक नागरिक के तौर पर हमें सरकार से सवाल करने का अधिकार भी केवल तभी होता है, जब हम चुनाव में मतदान करते हैं। ऐसे में उन्होंने लोगों से अपील की है कि चुनाव के दिन पहले मतदान और फिर जलपान करें। 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Also Read : हिमाचल चुनाव आयोग ब्रांड एंबेसडर मुस्कान नेगी बनी सहायक प्रोफेसर, 100% दृष्टिबाधित होने के बाद भी पाया मुकाम  https://rb.gy/tg5nng