HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

मंडी से अभिनेत्री कंगना रणौत की राजनीतिक पारी की शुरूआत, कांग्रेस पार्टी को अभी तक नहीं मिला उम्मीदवार

By Sandhya Kashyap

Published on:

Summary

कंगना रणौत को भाजपा ने दिया है टिकट  हिमाचल प्रदेश में भाजपा ने लोकसभा की चारों सीटों के लिए उम्मीदवार घोषित कर दिए है। मंडी संसदीय सीट के लिए पेंच फंसा हुआ था। अब वहाँ के लिए भी बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत को टिकट जारी कर दिया है। अब वो इस ...

विस्तार से पढ़ें:

कंगना रणौत को भाजपा ने दिया है टिकट 

हिमाचल प्रदेश में भाजपा ने लोकसभा की चारों सीटों के लिए उम्मीदवार घोषित कर दिए है। मंडी संसदीय सीट के लिए पेंच फंसा हुआ था। अब वहाँ के लिए भी बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत को टिकट जारी कर दिया है। अब वो इस सीट से राजनीतिक क्षेत्र में भी अपना भाग्य आजमाएंगी।

मंडी से अभिनेत्री कंगना रणौत की राजनीतिक पारी की शुरूआत, कांग्रेस पार्टी को अभी तक नहीं मिला उम्मीदवार

गौरतलब है कि कंगना रणौत ने अपने जन्मदिन के अवसर पर भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की थी। अब हिमाचल प्रदेश की मंडी लोकसभा सीट से पहली बार कोई महिला चुनाव लड़ रही है। कंगना ने भाजपा का आभार व्यक्त करते हुए एक्स पर पोस्ट साझा कर लिखा है, ‘मेरे प्यारे भारत और भारतीय जनता की अपनी पार्टी, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को मेरा हमेशा बिना शर्त समर्थन रहा है।

कंगना रणौत और सुप्रिया श्रीनेत का मामला पकड़ रहा तूल, माफ़ी मांगने के बाद भी गुस्से में विपक्ष 

आज भाजपा के राष्ट्रीय नेतृत्व ने मुझे मेरे जन्मस्थान हिमाचल प्रदेश, मंडी (निर्वाचन क्षेत्र) से अपना लोकसभा उम्मीदवार घोषित किया है। मैं लोकसभा चुनाव लड़ने पर हाईकमान के फैसले का पालन करती हूं। मैं आधिकारिक तौर पर पार्टी में शामिल होकर सम्मानित और उत्साहित महसूस कर रही हूं। मैं एक योग्य कार्यकर्ता और विश्वसनीय लोक सेवक बनने की आशा रखती हूं। धन्यवाद!’

मंडी से अभिनेत्री कंगना रणौत की राजनीतिक पारी की शुरूआत, कांग्रेस पार्टी को अभी तक नहीं मिला उम्मीदवार

वही दूसरी ओर कांग्रेस ने अभी तक इस सीट के लिए उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। इस सीट से निवर्तमान सांसद प्रतिभा सिंह कार्यकर्ताओं की सरकार द्वारा उपेक्षा किये जाने एवं उनके मनोबल गिरने के कारण पहले ही चुनाव लड़ने से मना कर चुकी है। अब पहले मंडी कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष का नाम भी सुर्खियों में आया था। उन्होंने ने भी चुनाव लड़ने से मना कर दिया है । अब इस सीट पर कांग्रेस के लिए उम्मीदवार घोषित किया जाना टेढ़ी खीर है।

यही हाल शिंमला संसदीय सीट का भी है इस आरक्षित श्रेणी की सीट पर कर्नल धनीराम सांडिल ही के. डी सुल्तानपुरी के बाद जीत दर्ज कर पाए हैं जो सभी वर्तमान में सोलन से विधायक हैं। अब सरकार के लिए उनको तैयार करना एक विधायक का वोट कम करना होगा यहीं परिस्थिति के डी सुल्तानपुरी के बेटे और वर्तमान में कसौली से विधायक विनोद सुल्तानपुरी की है। अब कांग्रेस के लिए उम्मीदवारों का चयन करना सहज नहीं है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Courtsey : ZEE News