HomeOnline Quizस्वास्थ्यशिक्षा/नौकरीराजनीतिसंपादकीयबायोग्राफीखेल-कूदमनोरंजनराशिफल/ज्योतिषआर्थिकसाहित्यदेश/विदेश

कृषि कार्यालय शिलाई एक साल से चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के हवाले, विपक्ष ने बताया व्यवस्था परिवर्तन का असर 

By Sandhya Kashyap

Published on:

Summary

कृषि विभाग कार्यालय में लम्बे से खाली पड़े है पद    प्रदेश सरकार की व्यवस्था परिवर्तन का असर सबसे अधिक शिलाई विधानसभा में देखने को मिल रहा है। प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने के बाद यहां कृषि खण्ड शिलाई एक चतुर्थ श्रेणी कर्मी के सहारे चल रहा हैं। कार्यालय के ...

विस्तार से पढ़ें:

कृषि विभाग कार्यालय में लम्बे से खाली पड़े है पद   

प्रदेश सरकार की व्यवस्था परिवर्तन का असर सबसे अधिक शिलाई विधानसभा में देखने को मिल रहा है। प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने के बाद यहां कृषि खण्ड शिलाई एक चतुर्थ श्रेणी कर्मी के सहारे चल रहा हैं। कार्यालय के अन्दर करीब दर्जन से ज्यादा अधिकारियों, कर्मचारियों के पद रिक्त होने से यहां के किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कई बार सरकार व विभाग के अधिकारियों से यहां पद भरने की बात की गई है।

कृषि कार्यालय शिलाई एक साल से चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के हवाले, विपक्ष ने बताया व्यवस्था परिवर्तन का असर 

हाल ही में संपन्न हुआ शिलाई विधानसभा के बकरास ने सरकार गांव के द्वार कार्यक्रम में भी मामला उठाया गया है। बावजूद उसके  सरकार व कृषि विभाग यहां रिक्त पदों को भरना भूल गया है। 35 पंचायत के किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

 *क्षेत्रीय किसानों ने सरकार और विभाग पर लगाया अनदेखी के आरोप* 

क्षेत्रीय किसानों में कँवर सिंह, रतन सिंह, हीरा सिंह, वीरेंद्र, प्रताप सिंह, कुंदन सिंह, आत्माराम की माने तो किसानों ने वर्तमान सरकार पर क्षेत्र की अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि गत वर्ष अगस्त माह से यहां कृषि विभाग का कार्यालय एक चतुर्थ श्रेणी के कर्मी के सहारे चल रहा हैं। 

 *कृषि विभाग कार्यालय में इतने पद वर्ष से खाली* 

कृषि विभाग कार्यालय शिलाई में कृषि विषय वाद विशेषज्ञ का एक पद, कृषि विकास अधिकारी का एक पद, कृषि प्रसार अधिकारी के 3 पद, कृषि प्रसार अधिकारी रोनहाट, टिंबी, हलाह, श्रीक्यारी में लम्बे समय से पद रिक्त हैं। यही नहीं कृषि विभाग द्वारा किसानों को अनुदान पर दिए जाने वाले कृषि यंत्र, सब्जियों के बीज, बीते एक साल से नहीं मिल रहे हैं। 

 *कृषि कार्यालय शिलाई के अंदर किसान करते है नगदी फसलों की बंपर खेती, फिर भी सरकार की अनदेखी झेलने को मजबूर* 

 कृषि विभाग कार्यालय शिलाई के किसान, टमाटर, अदरक, मटर, लहसुन व मोटे अनाजों की भारी मात्रा में खेती करते हैं। एशिया की प्रसिद्ध जिंजर बेली भी यहीं पर स्थित हैं। यदि अपनी फसल के बारे किसानो को कृषि संबंधित या फ़सल के रिग संबंधित जानकारी लेनी हों तो यहां विभाग के कार्यालय में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी हैं।  विगत माह मामला सरकार गांव के द्वार कार्यक्रम में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे उद्योगमंत्री व शिलाई के विधायक हर्षवर्धन चौहान के समक्ष भी उठाया गया। लेकिन उनके आश्वासन के बाद भी यहां किसी कर्मचारी की नियुक्ति नहीं हो पाई है। 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 *कृषि कार्यालय में रिक्त पदों पर पूर्व विधायक बलदेव तोमर ने ली चुटकी, सरकार की व्यवस्था परिवर्तन का बताया नतीजा* 

शिलाई के पूर्व विधायक बलदेव सिह तोमर ने चुटकी लेते हुए कहा कि यह वर्तमान सरकार की व्यवस्था परिवर्तन नीति हैं। उपमंडल शिलाई में कर्मचारियों के पद खाली  हैं। शिलाई के किसानों की कृषि उपज की पूरे भारत वर्ष में धूम हैं लेकिन यहाँ की वर्तमान सरकार के पास किसानों को कृषि यंत्र, सब्जियों के उत्तम बीज व विभाग के कर्मचारी नहीं हैं। हो सकता हैं कि यहां  सरकार कोई व्यवस्था परिवर्तन कर रही हों। मुख्यमंत्री के शिलाई प्रवास के दौरान मामला उनके  संज्ञान में भी लाया जाएगा, किसानों को उम्मीद हैं कि यहां कृषि विभाग में कुछ सुधार हो जाएगा।

*क्षेत्रीय लोगों को प्रदेश मुख्यमंत्री के दौरे से बंधी उम्मींदे, उनसे मिलने के बाद रिक्त पदों पर मांगेंगे नियुक्तियां* 

उल्लेखनीय है कि 13 मार्च को शिलाई में प्रदेश मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू शिलाई दौरे पर आ रहे है। और प्रदेश सरकार की व्यवस्था परिवर्तन से परेशान किसान, बागवान अपनी समस्या को लेकर उनसे मिलने वाले है। ऐसे में क्षेत्रीय लोगों को उम्मीद जगी है कि प्रदेश मुख्यमंत्री क्षेत्र की समस्याओं को प्रमुखता से देखेंगे और शिलाई कृषि कार्यालय में जल्द रिक्त पदों पर नियुक्तियां करेंगे।

Also Read : कृषि परिसर धौलाकुआं में कृषि महाविद्यालय स्थापना की मांग  को लेकर बागवानी मंत्री को स्थानीय प्रतिनिधियों ने सौंपा मांग पत्र https://rb.gy/ulxfrp